संस्‍कृत शब्‍दकोश

संस्‍कृत हिन्‍दी अंग्रेजी शब्‍दकोश | SANSKRIT HINDI ENGLISH DICTIONARY

शिखरसम्मेलनम् - का अर्थ


संस्‍कृत :
  • शिखरसम्मेलनम्
हिन्‍दी :
  • शिखर सम्मेलन
  • शिखर वार्ता
अंग्रेजी :
  • summit
  • convention
  • conference
  • talk

समानार्थी : शिखरवार्ता
शब्‍दप्रकार : संज्ञा
शब्‍दवर्ग : नपुंसकलिंग
उदाहरण : नई दिल्ली में 4 सितंबर से 6 सितंबर के बीच भारत और रूस के मध्य शिखर वार्ता सम्पन्न हुई ।
विवरण : किसी महत्वपूर्ण विषय पर राष्ट्रों के सर्वोच्च शासकों अथवा राष्ट्राध्यक्षों का सम्मेलन


आज का शब्‍द | Word of the Day

शब्‍द : भ्राता
हिन्‍दी : भाई-बंधु, बिरादरी, बंधुत्व, भ्रातृसंघ
अंग्रेजी : fraternity

पर्याय : Kindred, society, club
शब्‍दप्रकार : संज्ञा
शब्‍दवर्ग : स्त्रीलिंग
उदाहरण : हिंदुस्तानी बिरादरी
विवरण : ऐसे लोगों का समूह जिनमे परस्पर मेल, बंधुत्व की भावना हो।

अष्‍टाध्‍यायी सूत्रपाठ | Sutr of the Day

सूत्र 21 : क्‍िङति च ।। 01/01/05 ।।
अर्थ : गित्, कित् और ङित् प्रत्‍यय के परे होने पर भी इक् के स्‍थान में गुण और वृद्धि नहीं होती है ।
उदाहरण : गिति - जिष्‍णुः । जीतने वाला । भूष्‍णुः । सत्‍तावाला ।

किति - चितः, चितवान् । चयन किया । स्‍तुतः, स्‍तुतवान् । स्‍तुति की । मृष्‍टः, मृष्‍टवान् । शुद्ध किया ।

ङिति - चिनुतः । वे दोनों चुनते हैं । चिन्वन्ति । वे सब चुनते हैं ।


सर्वाधिक खोजे गये शब्‍द

नेष्यन्ति (बहु.)
गन्तव्यः
मदीयः
गर्हितम्
दिने
उपचयः
सत्वम्
यस्मात्
सुखदः
विद्ययाऽमृतमश्नुते
घ्राणविषयकम्
कृष्णाश्रितः
चक्रवाकी
वृषलः
व्रततिः
इहागच्छ
एतेभ्यः (बहु.)
सर्वदा
शतम्
व्यापारः
यदारभ्य
पितृव्यश्वसुरः
पितृस्वसृपतिः
अनुजवधू
कुलालः
आखुः
करण्डः
जलौकम्
क्षेमशुल्कम्
योगक्षेमम्
शेवधिः
यूथपतिः
पाखण्डः
शोभनम्
सूतः
यूयम् (बहु.)
श्रान्तिः
दिनचर्या
बाल्यकालः
यथा
पात्रेण
अधावत्
अबोधोपहताः
दाक्षिण्यम्
उपहतः
नयति
भक्षयति
पश्याम (‌‌‌‌‌‌बहु‌.)
गृहात्
कुपुत्रः
कानि (बहु.)
द्रष्टव्याः (बहु.)
अन्वेष्टुम्
काचिद्
प्रचलति
कीदृशम्
किल
ननु
खलु
शुभ रात्रिः
शुभ संध्या
शुभ प्रभातम्
शुभ मध्याह्नम्
शुभ अपराह्नम्
मम नाम
अग्रिमे
अवोक्षति
अवोक्ष्य
वृक्षौ
विभ्रमः
शेमुषी
अहनी
शक्नुयात्
श्रेष्ठतमः
मूकः
हवामहे
प्रालेयः
पठति
संकटः
व्यतीतानि (बहु.)
बुभुक्षितः
अरण्ये
भद्रम्
निचुलः
वेदेषु (बहु.)
उक्तवान्
मोघः
आनीतम्
भाषासु (बहु.)
ताभिः (बहु.)
पुंसाम् (बहु.)
भयसन्त्रस्तमनसा
वने
बिलस्य
साधकः
विवाहोत्सवः
नवीनतमः
दिशि
अस्त्युत्तरस्याम्
यज्ञः

सुभाषित | Sukti of the Day

सूक्ति : अधिगतपरमार्थान् पण्डितान् मावमंस्‍था-
स्‍तृणमिवलघुलक्ष्‍मीर्नैव तान् संरुणद्धि ।
अभिनवमदलेखाश्‍यामगण्‍डस्‍थलानाम्,
न भवति विसतन्‍तुर्वारणं वारणानाम् ।। 17 ।।
अर्थ : शास्‍त्रों के वास्‍तविक मर्म को समझाने वाले विद्वानों का अपमान न करें । तुच्‍छ तिनके के समान धन उन्‍हें अपने वश में नहीं कर सकता । नई मदरेखा से सुशोभित काले गण्‍डस्‍थल वाले हाथी को क्‍या कमल के नाल से बांधकर रोका जा सकता है ।।
ग्रन्‍थ : नीतिशतकम्
रचित : भर्तृहरि

लोकोक्तियाँ / मुहावरे

लो./मु. : श्‍वा यदि क्रियते राजा स किं नाश्‍नात्‍युपानहम् ।
आदत सिर के साथ जाती है ।
unavailable
अर्थ : यदि कुत्‍ते को राजा भी बना दिया जाए तो क्‍या वह जूते काटना छोड देता है अर्थात् नहीं छोडता है ।
प्रयोग :