संस्‍कृत शब्‍दकोश

संस्‍कृत हिन्‍दी अंग्रेजी शब्‍दकोश | SANSKRIT HINDI ENGLISH DICTIONARY

अविस्थलम् - का अर्थ


संस्‍कृत :
  • अविस्थलम्
हिन्‍दी :
  • भेड़ों का स्थान
  • एक प्राचीन नगर का नाम
अंग्रेजी :
  • place of sheep
  • name of an ancient city

शब्‍दप्रकार : संज्ञा
शब्‍दवर्ग : नपुंसकलिंग
उदाहरण : अविस्थलं वृकस्थलं माकन्दी वारणावतम् - महाभारत


आज का शब्‍द | Word of the Day

शब्‍द : आदर्शवादी
हिन्‍दी : आदर्शवादी, काल्पनिक, पूर्ण
अंग्रेजी : utopian, idealistic, ultitudinarian, red, daydreamer

विलोम : यथार्थवादी, वास्तविक, pragmatic, realistic
पर्याय : Platonic
शब्‍दप्रकार : संज्ञा, विशेषण
उदाहरण : भारत के लोग आदर्शवादी होते हैं।
विवरण : ऐसी धारणा, जिसमे कोई त्रुटि न हो उसे मानने वाला आदर्शवादी होता है। आदर्शवाद एक प्रकार का दर्शन है।

अष्‍टाध्‍यायी सूत्रपाठ | Sutr of the Day

सूत्र 20 : न धातुलोप आर्धधातुके ।। 01/01/04 ।।
अर्थ : यदि धातु के अवयव का लोप करनेवाला आर्धधातुक प्रत्‍यय परे हो तो इक् के स्‍थान में गुण और वृद्धि नहीं होता है ।
उदाहरण : गुण:
इ - चेचिय: । अधिक चुनने वाला ।
उ - लोलुव: । अधिक काटने वाला । पोपुव: । अधिक पवित्र करने वाला ।

वृद्धि:
ऋ - मरीमृज: । अधिक शुद्ध करने वाला ।


सर्वाधिक खोजे गये शब्‍द

मध्यधारा
अवकाश-प्राप्तिः
जरा
पात्रम्
विचित्रः
अभवत्
भोः
तिष्ठन्तु (बहु.)
ऋषयः (बहु.)
विकारः
आगच्छ
कथा
वृत्तिः
यन्त्र-द्विचक्रिका
व्यजनम्
अग्न्यस्त्रम्
अङ्कनम्
अतिकालः
अनुकृतम्
अग्निवर्षणम्
पञ्चगङ्गम्
स्तनितम्
अलक्तकम्
ओघः
प्रौघीयति
अकुशलम्
अकुलीनः
अकुर्वत्
निबन्धः
क्रोशं कुटिला नदी
अन्धपङ्गुन्यायः
अकुप्यम्
अकुतश्चिद्भयम्
तृणचरः
क्षारम्
विपुलम्
अकुण्ठितमतिः
अकुण्ठितः
कुंदः
मंचः
अकुटिलः
अकीर्तिकरः
प्रोषति
लजकारिका
स्‍थूललक्ष:
अकालज:
स्पर्शवेदिपटलम्
सन्दर्भानुगुणसाहाय्यः
कुटुम्बिनी
कुटुम्बिन्
कुटुम्बकम्
दरिद्रपोषणशाला
जीर्णभृत्यवृत्तिः
औपचारिकम्
याच्
भरिमन्
घृतकौशिकः
शाटिका
धमनम्
कुटुम्बः
गणयन्
पठित्वा
स्पर्शसंवेदिदर्शकः
लज्ज्
लञ्जा
लञ्चा
सङ्कोचिनी
अकायः
अकविः
रोटिका खादनम्
रोटिका
विषयायनम्
पर्यङ्कः
चित्रायनम्
शितानिलः
शितम्
गुरोः
सोपानम्
विभूषा
पिपासु:
ताडय
स्‍थानकम्
सौम्यः
शान्तः
गुल्फः
यस्य
वस्तुतः
अकीर्तिः
अकीर्तनम्
अकिंचित्करः
अकिंचिज्ज्ञः
अकिंचनः
अकालज्ञः
अकालक्षेपः
अकालः
अकार्यकारिन्
अधमः
अकार्यः
अकारणात्
दृढम्

सुभाषित | Sukti of the Day

सूक्ति : हर्तुर्याति न गोचरं किमपि शं पुष्‍णाति यत्सर्वदा ।
ह्यर्थिभ्‍य: प्रतिपाद्यमानमनिशं प्राप्‍नोति वृद्धिं पराम् ।
कल्‍पान्‍तेष्‍वपि न प्रयाति निधनं विद्याख्‍यमन्‍तर्धनम् ।
येषां तान्‍प्रति मानमुज्‍झत नृपा:, कस्‍तै: सह स्‍पर्धते ।। 16 ।।
अर्थ : जो धन, चुराने वाले चोर को दिखाई नहीं देता, जो सदैव कल्‍याणकारी और पोषण प्रदान करने वाला है, जो बांटने पर भी निरन्‍तर बढता ही है, तथा प्रलय काल में भी जो धन नाश को प्राप्‍त नहीं होता ऐसा विद्या नामक गूढ धन जिसके पास है, हे राजाओं उनके सामने गर्व करना छोड दो, भला उनसे कौन बराबरी कर सकता है ।
ग्रन्‍थ : नीतिशतकम्
रचित : भर्तृहरि

लोकोक्तियाँ / मुहावरे

लो./मु. : महाजनो येन गत: स पंथा ।
बडों की राह भली ।
do what the great men do.
अर्थ : बुद्धिमानों के बताये मार्ग का अनुसरण करना कल्‍याणकारी होता है ।
प्रयोग :